Breaking News

आखिरकार आर्सेलर मित्तल को मिली एस्सार स्टील के अधिग्रहण की हरी झंडी

By Outcome.c :09-03-2019 08:47


दुनिया की दिग्गज इस्पात कंपनी आर्सेलर मित्तल को आखिरकार संकट में फंसी एस्सार स्टील का 42,000 करोड़ रुपये में अधिग्रहण करने के लिए हरी झंडी मिल गई है। नैशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (NCLT) की अहमदाबाद पीठ ने शुक्रवार को कंपनी को इस अधिग्रहण की मंजूरी दे दी। रेजॉलुशन प्रोसेस काफी पहले ही 270 दिनों की निर्धारित समय सीमा को पार कर गई है।  
 

कंपनी के दिवाला अदालत (बैंकरप्ट्सी कोर्ट) में जाने के बाद उसके मूल प्रमोटर रुइया बंधुओं ने जून 2017 से एक के बाद एक कानूनी रूप से मामले को चुनौती दी। ऋण शोधन अक्षमता एवं दिवाला संहिता (IBC) के मई 2016 में अमल में आने के बाद से किसी नई कंपनी द्वारा एनसीएलटी संपत्ति के लिए इतनी बड़ी राशि का भुगतान पहली बार होगा। 

पिछले साल टाटा स्टील ने भूषण स्टील का 35,000 करोड़ रुपये में अधिग्रहण किया था। हालांकि, रुइया बंधुओं ने और लंबी लड़ाई का संकेत दिया है। उनका कहना है कि 54,389 करोड़ रुपये की पेशकश सबसे ज्यादा है। न्यायमूर्ति हरिहर प्रकाश चतुर्वेदी तथा न्यायमूर्ति मनोरमा कुमारी की एनसीएलटी पीठ ने यह निर्णय दिया है। 

अपीलीय प्राधिकरण एनसीएलएटी ने मामले को निपटाने के लिए शुक्रवार तक का समय दिया था। एस्सार स्टील को खरीदने के लिए आर्सेलर मित्तल ने लोन रेजॉलुशन के लिए 42,000 करोड़ रुपये के भुगतान तथा इस्पात कारखाने में 8,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालने का प्रस्ताव किया है। एस्सार स्टील के पास एक करोड़ टन क्षमता का स्टील कारखाना गुजरात के हजीरा में है।

Source:Agency

Rashifal