Breaking News

PNB घोटाले के कारण बने SWIFT पर लापरवाही

By Outcome.c :06-03-2019 08:42


स्विफ्ट मैसेजिंग सॉफ्टवेयर से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन नहीं किए जाने के मामले में सख्त रुख अपनाते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने निजी क्षेत्र के यस बैंक और आईसीआईसीआई बैंक पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।

यस बैंक के अलावा इलाहाबाद बैंक पर आरबीआई ने 2 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। इलाहाबाद बैंक के खिलाफ जहां नास्त्रो अकाउंट से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन नहीं किए जाने के मामले में जुर्माना लगा है, वहीं यस बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के खिलाफ स्विफ्ट से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन नहीं किए जाने के मामले में जुर्माना लगा है। 
 

स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में यस बैंक ने कहा, 'आरबीआई ने स्विफ्ट (SWIFT) से जुड़े नियामकीय दिशानिर्देशों का पालन नहीं किए जाने के मामले में बैंक पर कुल एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।'

वहीं आईसीआईसीआई बैंक ने स्टॉक एक्सचेंज को बताया है कि बैंकिंग नियमन एक्ट 1949 के तहत कुल एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है। यह जुर्माना आरबीआई के दिशानिर्देशों के मुताबिक स्विफ्ट से जुड़े नियंत्रण को समय पर लागू नहीं करने की वजह से लगा है। स्विफ्ट, वैश्विक स्तर पर इस्तेमाल होने वाला मैसेजिंग सॉफ्टवेयर है, जिसका इस्तेमाल बैंक और वित्तीय संस्थाएं सभी तरह के वित्तीय लेन-देन में करती हैं।

गौरतलब है भारतीय बैंकिंग सेक्टर का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला भी इसी मैसेजिंग सॉफ्टवेयर के दुरुपयोग की वजह से हुआ था। पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) को घोटाले की वजह से करीब 14,000 करोड़ रुपये की चपत लगी थी। घोटाला सामने आने के बाद से केंद्रीय बैंक सभी तरह के नियमन को सख्त करने पर जोर दे रहा है।

Source:Agency

Rashifal