Breaking News

भारत से बराबरी करते-करते बांग्लादेश से पिछड़ गया पाकिस्तान

By Outcome.c :12-02-2019 07:48


बांग्लादेश की पहचान में गरीबी, विशाल आबादी और प्राकृतिक आपदा कभी स्थायी हुआ करती थी. पिछले दो सालों से बांग्लादेश म्यांमार से आए लाखों रोहिंग्या शरणार्थियों की समस्या से भी परेशान है. लेकिन बांग्लादेश को समस्याओं को पीछे छोड़कर अतीत से बाहर निकलना आता है. कुछ अर्थशास्त्री तो इसे अगला एशियाई शेर कहने लगे हैं.

 बांग्लादेश की पिछले साल आर्थिक वृद्धि दर 7.8 फीसदी रही जो भारत की 8.0 फीसदी की आर्थिक वृद्धि से भी ज्यादा पीछे नहीं है. हैरानी की बात ये है कि बांग्लादेश इस मामले में पाकिस्तान को बहुत पीछे छोड़ चुका है. पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि दर 5.8 फीसदी ही है. बांग्लादेश में प्रति व्यक्ति कर्ज (434 डॉलर) पाकिस्तान के प्रति व्यक्ति कर्ज ($974) से आधा है. बांग्लादेश का विदेशी मुद्रा भंडार 32 अरब डॉलर पाकिस्तान के विदेशी मुद्रा भंडार 8 अरब डॉलर के मुकाबले चार गुना ज्यादा है. 

बांग्लादेश तरक्की की एक नई कहानी लिख रहा है. साल 2018 में ही बांग्लादेश के खाते एक बड़ी उपलब्धि भी दर्ज हुई जब यूएन ने 2024 तक बांग्लादेश को अल्पविकसित देशों की सूची से विकासशील देशों की श्रेणी में डालने की बात कही.

Source:Agency

Rashifal