Breaking News

अमेरिका: बिल पास हुआ तो भारतीयों को छप्पर फाड़कर मिलेगा ग्रीन कार्ड

By Outcome.c :09-02-2019 08:07


अमेरिका में जल्द ही हर देश के हिसाब से ग्रीन कार्ड की संख्या पर लागू सीमा को समाप्त किया जा सकता है। बता दें कि देश के हिसाब से ग्रीन कार्ड की संख्या सीमित होने के चलते भारत और चीन के नागरिकों को औसतन कम नागरिकता मिल पाती है जबकि अन्य देशों के नागरिकों को आसानी से अमेरिका की स्थायी नागरिकता मिल जाती है। इस संबंध में अमेरिकी संसद में पेश किए गए बिल के पास हो जाने के बाद ग्रीन कार्ड की संख्या पर लगी लिमिट खत्म हो जाएगी। 
अमेरिका की दोनों पार्टियों (रिपब्लिकन और डेमोक्रैटिक) के ज्यादातर सांसद इस बिल के पक्ष में हैं, ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि इसके कानून बनने में कोई समस्या नहीं होने वाली है। सदन में कैलफर्निया के सांसद जो लॉफग्रेन (डेमोक्रैट) और लोवा से सांसद केन बक (रिब्लिकन) ने सदन में फेयरनेस ऑफ हाई स्किल्ड इमीग्रैंट्स ऐक्ट 2019 का नया वर्जन पेशन पेश किया। सदन में कमला हैरिस (डेमोक्रैट) और माइक ली (रिपब्लिकन) ने भी इसका समर्थन किया है। 
एक साल में एक देश के 9800 नागरिकों को ही मिलती है स्थायी नागरिकता 
इस बिल के पास हो जाने से अमेरिका में नौकरी के आधार पर मिलने वाली स्थायी नागरिकता दिए जाने संबंधी लिमिट समाप्त हो जाएगी। अभी यह लिमिट सात पर्सेंट है। अभी के नियमों के हिसाब, एक साल में 1,40,000 से ज्यादा ग्रीन कार्ड नहीं जारी किए जा सकते हैं। इसके अलावा किसी भी एक देश से 9,800 नागरिकों को एक साल में स्थायी नागरिकता नहीं दी सकती है। 

इस कानून के प्रभाव आने के बाद अमेरिका में नागरिकता मिलने का इंतजार कर रहे भारतीय और चीनी नागरिकों के पेंडिंग पड़े ऐप्लिकेशन क्लियर हो सकते हैं। अभी एक साल में भारत के मात्र 9,800 नागरिकों को ही अमेरिका की स्थायी नागरिकता मिल पाती है जबकि हर साल ऐसे हाई स्किल्ड लोगों की संख्या बहुत ज्यादा होती है,जो काम की तलाश में अमेरिका जाते हैं। 

Source:Agency

Rashifal