Breaking News

रॉबर्ट या चिदंबरम किसी की भी जांच करो, पर राफेल पर जवाब दो: राहुल

By Outcome.c :09-02-2019 07:53


राफेल मुद्दे पर नए खुलासे से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के तेवर और तीखे हो गए हैं। उन्होंने शुक्रवार को कहा कि सरकार पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम और रॉबर्ट वाड्रा सहित पार्टी के किसी भी नेता के खिलाफ जांच कराए, पर राफेल मामले पर जवाब दे। 

पार्टी मुख्यालय में प्रेसवार्ता के दौरान रॉबर्ट वाड्रा पर ईडी से पूछताछ के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार पी.चिदंबरम और रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ जांच करना चाहती है,तो करे। सरकार को कांग्रेस में जिसके खिलाफ कार्रवाई करनी है, जरुर करे। पर राफेल की भी जांच कराइए। राफेल को लेकर उठे सवालों का जवाब दीजिए। दरअसल, ईडी ने धनशोधन मामले में रॉबर्ट वाड्रा से पिछले दो दिनों से लंबी पूछताछ की है। ईडी पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम और उनके परिवार के खिलाफ भी धनशोधन मामले में जांच कर रहा है।

समानांतर बातचीत : 
पार्टी मुख्यालय में मीडिया को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि राफेल विमान सौदे को लेकर प्रधानमंत्री ने फ्रांस के साथ समानांतर बातचीत की थी। इसलिए उन्हें इस पर जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने कहा था कि प्रधानमंत्री ने उन्हें बताया था कि तीस हजार करोड़ रुपये का अनुबंध किसे मिलना चाहिए। अब रक्षा मंत्रालय के दस्तावेज बता रहे हैं कि प्रधानमंत्री ने इस बारे में फ्रांस सरकार से बात की थी। ऐसे में यह मामला पूरी तरह स्पष्ट है।

पीएम का दोहरा व्यक्तित्व :
प्रधानमंत्री के उल्टा चोर, चौकीदार को डांटे वाले बयान पर पलटवार करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री अपने बारे में बात कर रहे थे। उनका दोहरा व्यक्तित्व है, प्रधानमंत्री के लिए कड़े शब्द इस्तेमाल करने पर भी राहुल गांधी ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि वह अमूमन किसी के खिलाफ कड़े शब्द इस्तेमाल नहीं करते हैं, पर इस मामले में यह शब्द इस्तेमाल करने के लिए मजबूर हैं। क्योंकि सच्चाई यह है कि उन्होंने उद्योगपति को फायदा पहुंचाया है।

पर्रिकर पर सफाई दी:
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर साफ किया कि गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से उन्होंने शिष्टाचार भेंट की थी। मुलाकात के दौरान राफेल पर कोई बात नहीं हुई। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर लिखे पत्र में साफ कहा है कि मुलाकात का कतई यह मतलब नहीं है कि वह राफेल पर प्रधानमंत्री के बारे में कोई बात नहीं करुंगा।

Source:Agency

Rashifal