Breaking News

सीरिया-इराक से IS का खात्मा, अगले हफ्ते औपचारिक ऐलान कर देंगे: ट्रम्प

By Outcome.c :07-02-2019 08:02


वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि आतंकी संगठन आईएसआईएस का साम्राज्य खत्म हो चुका है। अगले हफ्ते किसी भी वक्त इस बात का औपचारिक ऐलान भी कर दिया जाएगा। ट्रम्प ने बुधवार को बताया कि अमेरिका और उसकी सहयोगी सेनाओं ने सीरिया और इराक से आईएसआईएस के सभी ठिकानों को खत्म कर दिया है।


'मैं जल्दबाजी नहीं करना चाहता'
ट्रम्प वॉशिंगटन में आईएसआईएस को हराने वाले ग्लोबल कोएलिशन के मंत्रियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगले हफ्ते किसी भी वक्त हम औपचारिक रूप से यह घोषणा कर देंगे कि आईएसआईएस का 100% खात्मा हो गया है। लेकिन ऐसा करने के लिए मैं कुछ इंतजार करना चाहता हूं। मैं जल्दबाजी में कुछ नहीं कहना चाहता।

ट्रम्प ने यह भी बताया कि उनके प्रशासन ने एक अप्रोच विकसित की है। इससे जंग के मैदान में अमेरिकी कमांडरों और हमारे सहयोगियों को एक नई ताकत मिली और उन्होंने आतंकी संगठन से सीधे टक्कर ली। बीते 2 साल में हम 20 हजार वर्गमील इलाका आईएसआईएस से छीनकर अपने कब्जे में ले चुके हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति के मुताबिक- हमने जंग का मैदान सुरक्षित कर लिया है। हमने जीत के बाद लगातार जीत हासिल कीं। मोसुल और रक्का पर दोबारा कब्जा किया। हमने 60 मील से ज्यादा इलाके में रह रहे आईएसआईएस नेताओं को खत्म कर दिया। वे (आईएसआईएस) फिर से संगठित होने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन यह उनके लिए मुश्किल होगा। मैं यह नहीं कहना चाहता कि हमारी वजह से बेहतर काम हुआ।

ट्रम्प ने कहा कि 100 से ज्यादा आईएसआईएस के टॉप नेता मारे जा चुके हैं। हजारों आईएसआईएस लड़ाके जंग छोड़कर जा चुके हैं। अमेरिका और उसकी सहयोगी सेनाओं ने 50 लाख से ज्यादा सिविलियंस को आतंकियों के कब्जे से आजाद कराया। इसके लिए ग्लोबल कोएलिशन को शुक्रिया अदा करता हूं। किसी को यकीन नहीं था कि आईएस का खात्मा इतनी जल्दी हो जाएगा।

ग्लोबल कोएलिशन के मंत्रियों ने बयान में कहा कि सीरिया-इराक में आईएसआईएस को हराना आतंकी संगठन के खिलाफ जंग में मील का पत्थर साबित होगा। लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि आईएसआईएस के खिलाफ युद्ध का खात्मा हो गया। सीरिया-इराक में अभी भी कुछ जगहों पर कुछ क्षेत्रीय आतंकी गुट सक्रिय हैं। आईएस उनका समर्थन कर रहा है। इसके लिए अभी भी लड़ाई जारी रखने की जरूरत है।

अमेरिका में हुई बैठक में दुनिया के 70 देशों के मंत्रियों ने हिस्सा लिया था। मीटिंग में शामिल हुआ एकमात्र दक्षिण एशियाई देश अफगानिस्तान था। आईएसआईएस के खिलाफ युद्ध कर रहे देशों की सेनाओं में  अफगानिस्तान भी शामिल है।
 

Source:Agency

Rashifal