Breaking News

प्रोफेसर देते हैं छात्राओं को धमकी, बात नहीं मानी तो फेल कर देंगे

By Outcome.c :09-01-2019 08:30


इंदौर । एमजीएम मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर के खिलाफ पीजी के विद्यार्थियों ने मोर्चा खोल दिया है। छात्रों की शिकायत है कि प्रोफेसर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हैं। वे छात्राओं को मानसिक रूप से परेशान करते हुए धमकाते हैं कि उनकी बात नहीं मानी तो वे फेल कर देंगे। विद्यार्थियों ने शिकायत के साथ गालियां देते हुए प्रोफेसर की ऑडियो रिकार्डिंग भी सौंपी है। मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति ने मामले में चार सदस्यीय समिति बनाकर जांच के आदेश दिए हैं। समिति 15 जनवरी को प्रोफेसर के बयान दर्ज करेगी।

मामला एनेस्थीसिया विभाग के प्रोफेसर डॉ. वीएस भाटिया का है। उनके खिलाफ शिकायत करने वालों में छात्राएं भी शामिल हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि डॉ. भाटिया कक्षाओं के बीच आकर परेशान करते हैं। वे कहते हैं कि दूसरे प्रोफेसर के बजाय उनकी बात मानें। छात्राओं के सामने ही भाटिया गालियां देते हैं। स्टूडेंट्स ने शिकायत राज्यपाल को भेजी थी, जहां से इसे मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति को भेजा गया। इस मामले में एमजीएम मेडिकल कॉलेज के डीन को भी सूचित कर दिया गया।

शिकायत को लेकर डॉ. भाटिया का कहना है कि उन्हें जानबूझकर फंसाया जा रहा है। वे रीजनल एक्जीक्यूटिव कोऑर्डिनेटर हैं और उन्हें औचक निरीक्षण का अधिकार है। हाल ही में उन्होंने व्यवस्था सुधारने के लिए कुछ सख्ती की है। इस वजह से कुछ प्रोफेसर नाराज हैं। छात्रों के लिए भी कक्षाओं में उपस्थिति अनिवार्य कर दी है। कुछ प्रोफेसर मुझे पद से हटाने के लिए षड्यंत्र रच रहे हैं। उन्होंने छात्रों से झूठी शिकायत करवाई है। मैं जांच कमेटी के सामने अपना पक्ष स्पष्ट कर दूंगा।

जांच चल रही है

शिकायत करने वाले विद्यार्थियों ने जो ऑडियो रिकार्डिंग सौंपी है, उसमें डॉ. भाटिया अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते सुनाई दे रहे हैं। मामले की जांच चल रही है। - डॉ. ज्योति बिंदल, डीन, एमजीएम मेडिकल कॉलेज

Source:Agency

Rashifal