Breaking News

इस्लाम छोड़ने पर परिवार से जान का खतरा बताने वाली युवती को राहत

By Outcome.c :08-01-2019 08:08


बैंकॉक। इस्लाम छोड़ने पर परिवार द्वारा हत्या की आशंका जता रही 18 वर्षीय युवती रहाफ को बड़ी राहत मिली है। उसकी घर वापसी का फैसला टल गया है। सोशल मीडिया पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चले अभियान के बाद संयुक्त राष्ट्र ने युवती को अपने यहां शरण देने का फैसला लिया है। संयुक्त राष्ट्र ने सोमवार शाम सोशल मीडिया अभियान और तमाम अंतरराष्ट्रीय एनजीओ की पहल पर ये फैसला लिया है।

धर्म चाहे कोई भी उसकी कट्टरता हमेशा घातक साबित होती है। इसका अंदाजा 18 वर्षीय रहाफ की कहानी से लगाया जा सकता है, जो तीन दिन से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसकी मदद के लिए सोशल मीडिया पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मुहिम चलाई गई थी। युवती ने रविवार से खुद खुद को बैंकॉक के एक होटल में कैद कर रखा था, ताकि उसे सऊदी अरब वापस न भेजा जा सके। युवती ने आशंका जताई थी कि सऊदी अरब वापस जाने पर परिवार वाले उसकी हत्या कर देंगे।

सऊदी अरब की रहने वाली इस 18 वर्षीय युवती का नाम है रहाफ मोहम्मद एम अल्कुनून। उसके पिता सऊदी अरब में ऊंचे सरकारी ओहदे पर हैं। मतलब वह एक अमीर घराने की है। युवती रविवार को सऊदी अरब से भागकर बैंकॉक आ गई थी। उसके परिवार की शिकायत पर बैंकॉक एयरपोर्ट पर उसे पकड़ लिया गया था। थाईलैंड प्रशासन ने उसका पासपोर्ट और अन्य दस्तावेज जब्त कर लिए थे। उसे जबरन घर वापस भेजने के लिए एक होटल में रखा गया था।

युवती को डर था कि घर वापस जाने पर परिवार वाले उसकी हत्या कर देंगे, लिहाजा उसने खुद को सोमवार शाम तक होटल में कैद रखा था। इसके साथ ही युवती ने ट्विटर के जरिए सोशल मीडिया पर खुद की जान बचाने की मुहिम शुरू की थी। युवती को सोशल मीडिया पर अंतरराष्ट्रीय मीडिया, समाज सेवी संगठनों और मानविधकारों के लिए काम करने वाली संस्थाओं का साथ मिला। इसके बाद सोमवार शाम उसकी घर वापसी का फैसला निरस्त कर, उसे संयुक्त राष्ट्र में शरण देने का फैसला लिया गया।

दो साल पहले छोड़ चुकी है इस्लाम
रहाफ के अनुसार वह अपने परिवार के आतंक और बंदिशों से परेशान हो चुकी है। वह नास्तिक है और करीब दो साल पहले (2016 में) उसने इस्लाम छोड़ दिया है। तब वह 16 वर्ष की थी। उसके पास परिवार की बंदिशों से बचने के लिए इसके अलावा और कोई रास्ता नहीं था। अब उसके कट्टर परिवार वाले उसकी हत्या करना चाहते हैं। इसलिए वह अपने घर वापस लौटना नहीं चाहती है।
 

Source:Agency

Rashifal