Breaking News

90% वालों को बैठाकर 40% वालों की नियुक्ति देश के लिए घातक: भार्गव

By Outcome.c :16-04-2018 06:17


मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता गोपाल भार्गव ने आरक्षण पर टिप्पणी की है। गोपाल भार्गव ने कहा कि ‘ यदि योग्यता को दरकिनार कर अयोग्य लोगों का चयन किया जाएगा, यदि 90 फीसदी वाले को बैठा दिया जाएगा और 40 फीसदी वाले की नियुक्ति की जाएगी तो यह देश के लिए घातक है’। प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार में मंत्री गोपाल भार्गव ने आरक्षण के मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए कहा कि जब देश आजाद हुआ था तब एक चौथाई सांसद-विधायक, अधिकारी, कर्मचारी हमारे वर्ग के थे लेकिन अब महज 10 फीसदी ही रह गए हैं।

एमपी के कैबिनेट मंत्री ने कहा कि इसका कारण यह है कि पहले नीति थी, अब अनीति है। उन्होंने राजनीतिक दलों पर भी निशाना साधते हुए कहा कि हर दल ब्राह्रमणों का समर्थन तो चाहती है पर उसे देना कुछ नहीं चाहती। इधर मंत्री गोपाल भार्गव के इस विवादित बयान पर हंगामा भी मच गया है। विपक्षी दलों ने गोपाल भार्गव को उनके बयान पर घेरना शुरू किया तो बाद में गोपाल ने कहा कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है। गोपाल भार्गव ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने तो आरक्षण शब्द का इस्तेमाल ही नहीं किया। आपको बता दें कि इस वक्त देश में आरक्षण के मुद्दे पर जबरदस्त बहस छिड़ी हुई है।
कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉक्टर भीमराव रामजी अम्बेडर की 127वीं जयंती से पूर्व संध्या पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि दलितों के सम्मान और अधिकार के लिए हमारी सरकार पूरी तरह प्रतिबद्ध है। उन्होने कहा था कि एससी/एसटी मामलों की सुनवाई के लिए स्पेशल कोर्ट का गठन किया जा रहा है। उन्होंने कहा था कि सरकार अति पिछड़ों को आरक्षण का और ज्यादा फायदा देना चाहती है।

आरक्षण के विषय पर भाजपा ने कांग्रेस पर देश में भ्रम फैलाने का आरोप भी लगाया है। पीएम ने भी इस मुद्दे पर कांग्रेस को घेरते हुए कहा था कि कांग्रेस आरक्षण खत्म किये जाने का अफवाह तो कभी दलितों के अत्याचार से जुड़े कानून को खत्म किये जाने की अफवाह फैला रही है। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस पार्टी भाई से भाई को लड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है।

Source:Agency

Rashifal