Breaking News

बीजेपी सरकार को फिर से सत्ता में नहीं आने देंगे: सोनिया गांधी

By Outcome.c :10-03-2018 06:13


इंडिया टुडे समूह के प्रमोटर और वरिष्ठ पत्रकार अरुण पुरी के साथ बात करते हुए कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने माना कि वो हाल के वक्त में राजनीति से दूर रही हैं लेकिन इस बीच वो किसी और काम में व्यस्त थीं और जल्द ही राजनीतिक काम करते हुए नज़र आएंगी.

दिल्ली में आयोजित इंडिया टुडे कॉनक्लेव में बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, "मैं राजीव गांधी और इंदिरा गांधी से जुड़े कुछ कागज़ात जो मेरे पास हैं उन्हें डिजिटल करना चाहती हूं और इसी काम में व्यस्त हूं. इनमें इंदिरा की राजीव को लिखी चिट्ठियां और राजीव की उनकी मां को लिखी चिट्ठियां शामिल हैं."

"मैं जल्द ही (अगले सप्ताह) विपक्षी पार्टियों और अन्य पार्टियों के राजनेताओं से मिलने वाली हूं और राजनीति के बारे में बात करने वाली हूं." लेकिन स्पष्ट तौर पर राजनीति में भागीदारी के बारे में सोनिया ने कुछ नहीं कहा.

उन्होंने कहा, "अगर हम इस देश की चिंता करते हैं तो हमें अपने सभी राजनीतिक मतभेद भुलाने होंगे और साथ आना पड़ेगा."

इमेज कॉपीरइटSAJJAD HUSSAIN/AFP/GETTY IMAGES
राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बना दिए गए हैं. नई ज़िम्मेदारियों को निभाने की भूमिका में राहुल गांधी को सोनिया क्या कहना चाहती हैं? इस पर सोनिया ने कहा "राहुल गांधी ज़िम्मेदार हैं और वो अपने कंधों पर रखे भार को समझते हैं. उनको मैं कोई राय नहीं देना चाहती."

"राहुल का काम करने का अपना तरीका है, मेरा अपना था. कांग्रेस पार्टी के कुछ नीति नियम हैं हम उसका पालन करते हैं."

पार्टी में युवाओं को जगह देने के बरे में वो कहती हैं, "हमें पार्टी में वरिष्ठ नेताओं को तो रखना ही है और साथ ही युवा नेताओं को भी ज़िम्मेदारी के साथ सामने लेकर आना है."

इमेज कॉपीरइट/AFP/GETTY IMAGES
2019 चुनावों के लिए क्या करेगी पार्टी?
भाजपा की आज 21 राज्यों में सरकार है जबकि कांग्रेस मात्र चार राज्यों तक ही सिमट गई है. साल 2014 को देखें तो कांग्रेस 13 राज्यों की सत्ता पर काबिज़ थी.

इस बारे में सोनिया ने कहा, "ये एक चुनौती है लेकिन मुझे उम्मीद है कि हम इस मुश्किल वक्त का सामना करेंगे."

"साल 2019 के लिए पार्टी स्तर पर हमारी पार्टी को लोगों के साथ जुड़ने के नए रास्ते बनाने होंगे. हमें अपनी पॉलिसी भी बदलनी पड़ेगी. मैं मानती हूं कि हमारी कई पॉलिसी को मौजूदा भाजपा ने अपनाया है लेकिन हमें अब और नई बातों के बारे में सोचना होगा."

उन्होंने कहा, "कांग्रेस पर भ्रष्टाचार के जो आरोप लगाए गए हैं वो बढ़ा-चढ़ा कर बताए गए हैं. टूजी का ही मसला लें तो जो आंकड़ा सीएजी ने दिया था वो काफ़ी बढ़ा-चढ़ा कर बताया गया था और काफ़ी हद तक काल्पनिक था. ये किसी सटीक आंकड़े पर आधारित नहीं था."

Source:Agency

Rashifal