Breaking News

गुना के जंगल में वन माफिया ने पांच सौ से अधिक पेड़ काटे

By Outcome.c :12-02-2018 06:37


गुना। फतेहगढ़ वन परिक्षेत्र के महुआखेड़ा रीछ वाली डांग (जंगल) में करीब एक हफ्ते से पेड़ों की कटाई होती रही, लेकिन वन अमला सोता रहा। इस दौरान लकड़ी माफियाओं ने पांच सौ से अधिक पेड़ों को काटकर जंगल को सपाट बना दिया। इससे सवाल उठता है कि इतनी बड़ी संख्या में पेड़ों का कटना बिना वनकर्मियों की मिलीभगत के संभव कैसे हो सकता है! इधर, वन अधिकारी पेड़ों की कटाई का मामला संज्ञान में आते ही पेड़ों की गिनती और जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की बात कह रहे हैं।

दरअसल, जिले के फतेहगढ़ वन परिक्षेत्र में महुआखेड़ा रीछ वाली डांग है, जहां 500 बीघा से बड़े क्षेत्र में तेंदू, पलाश, दूधी, धवड़ा, छोला आदि के पेड़ों का जंगल है। जानकारी के मुताबिक पिछले करीब एक हफ्ते में जंगल के पांच सौ से अधिक पेड़ों को काट डाला गया। नवदुनिया टीम ने रविवार को जंगल का जायजा लिया, तो पेड़ों की जगह ठूंठ नजर आ रहे थे। इनमें छोटे-बड़े सभी तरह के पेड़ शामिल हैं। इससे कभी घना जंगल दिखने वाली महुआखेड़ा रीछ वाली डांग अंदर तक सपाट नजर आ रही है।

इनका कहना है

महुआखेड़ा के जंगल में पेड़ों की कटाई की जानकारी मिली है। इसके साथ ही रेंजर व वन अमले को कटे पेड़ों की नंबरिंग करने कहा है। जहां तक नंबरिंग से पेड़ों को छोड़ने की बात है, तो मैं स्वयं जाकर देखूंगा। इसके बाद कार्रवाई भी की जाएगी। इस दौरान देखा जाएगा कि रेंजर व वन अमले ने पूर्व में कार्रवाई क्यों नहीं की, इसकी जांच भी की जाएगी। इसमें जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ भी कार्रवाई होगी। 

- डीके राजौरिया, एसडीओ बमोरी

Source:Agency

Rashifal