Breaking News

महिला से थे संबंध, बच्चे को पता चल गया तो ट्यूटर ने मौत के घाट उतारा

By Outcome.c :10-01-2018 08:20


भोपाल। बैरागढ़ में आठ वर्षीय मासूम बच्चे की जूते के फीते से गला घोंटकर की गई हत्या का मंगलवार को खुलासा हो गया है। बैरागढ़ पुलिस के अनुसार आरोपी बच्चे के घर के पास ही रहने वाला पूर्व होम ट्यूटर बिट्टू उर्फ विशाल रूपानी ही है। बच्चा उसे भैया कहता था। यही वजह थी कि स्कूल से बाहर आने के बाद वह उसके साथ चला गया। इसके करीब 22 मिनट बाद आरोपी ने स्कूल से 200 मीटर दूर कृष्णा प्लाजा स्थित अपने ऑफिस में बच्चे को मौत की नींद सुला दिया।

आरोपी का कहना है बच्चे की मां के साथ उसके संबंध थे। बच्चे ने उन्हें साथ देख लिया था। इसके बाद परिजनों ने पूरे मोहल्ले के सामने उसे बेइज्जत किया था। इस अपमान का बदला लेने के लिए उसने वारदात को अंजाम दिया। टीआई सुधीर अरजारिया के मुताबिक जांच में यह बात भी सामने आई है कि मृतक की मां और आरोपी के बीच घनिष्टता थी, दोनों घंटों मोबाइल पर लंबी बातचीत करते थे। फिलहाल बच्चे के अंतिम संस्कार की रस्मों के बाद मां से एक बार फिर से पूछताछ की जाएगी।

राजेंद्र नगर बैरागढ़ में रहने वाले परसराम महावर का 8 वर्षीय बेटा भरत उर्फ कार्तिक क्राइस्ट मेमोरियल स्कूल में दूसरी कक्षा में पढ़ता था। सोमवार सुबह आठ बजे वह ऑटो से स्कूल गया था। छुट्टी के बाद भी उसकी बहन ऑटो से घर पहुंच गई, लेकिन कार्तिक नहीं पहुंचा तो परिजन उसकी तलाश में जुट गए। स्कूल प्रबंधन द्वारा बताया गया कि वह स्कूल से घर जा चुका है। दोपहर साढ़े चार बजे बैरागढ़ थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। वहीं शाम पौने छह बजे मुबारकपुर टोल नाके के कर्मचारियों ने सड़क किनारे सफेद रंग का संदिग्ध बोरा देखा और डायल 100 को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बोरी को खोला तो उसके अंदर बच्चे की लाश मिली। उसकी शिनाख्त कार्तिक के रूप में हुई थी।

स्कूल से ले जाकर अपने ऑफिस में घोंटा गला

एसपी हेमंत सिंह चौहान ने बताया कि आरोपी बिटटू उर्फ विशाल रूपानी (19) पहले भी कार्तिक को स्कूल से ले जा चुका था। इसी कारण से जब सोमवार को 2 बजकर 20 मिनट पर छुट्टी होने पर वह बाहर आया तो वह विशाल को देखकर उसके साथ चला गया। आरोपी उसे स्कूल से 200 मीटर दूर सड़क के पार कृष्णा प्लाजा कॉम्पलेक्स स्थित एलईडी बल्ब के आफिस में ले गया। यहां पर वह नौकरी करता है। आफिस में उस समय कोई नहीं था। यहां अपने जूते के फीते से कार्तिक की गला घोंटकर हत्या कर दी।

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाया

आरोपी ने पहले कार्तिक के शव को ट्रैवल बैग में डालने की कोशिश की, लेकिन उसकी ऊंचाई अधिक होने के कारण वह उसमें नहीं आ पाया। तब आरोपी ने पुरानी पार्सल की बोरी में बैग समेत उसे डाला और उसे सिलकर आफिस से घसीटता हुआ बाहर लाया। बोरी को उसने अपनी बाइक पर बांधा और मुबारकपुर टोल नाके से महज 50 मीटर दूर फेंककर वापस आ गया था। कॉम्पलेक्स में लगे सीसीटीवी में बोरी में बंद लाश को घसीटते हुए आरोपी कैद हो गया है।

मां को क्लीनचिट नहीं ,जांच जारी

डीआईजी संतोष सिंह का कहना है कि मृतक की मां को अभी पूरी तरह से इस हत्याकांड में क्लीनचिट नहीं दी है। जांच के बाद आगे कार्रवाई होगी। आरोपी कुछ बातें बता रहा है, लेकिन वह हत्या का आरोपी है। उसकी सभी बातों पर विश्वास नहीं किया जा सकता है। इधर पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपी और मृतक की मां के बीच मोबाइल पर बातचीत होती थी। सोमवार को आरोपी और उसकी मां के बीच मुलाकत हुई थी।

स्कूल के बाहर शव रखकर किया हंगामा

इधर, मंगलवार सुबह मासूम कार्तिक का पीएम हमीदिया अस्पताल में किया गया। जहां से परिजन शव को सीधे बैरागढ़ मेन रोड पर स्थित क्राइस्ट मेमोरियल स्कूल ले गए। स्कूल के बाहर शव को रखकर परिजनों ने जमकर हंगामा किया। उनका आरोप था कि स्कूल की लापरवाही के कारण आरोपी का बच्चे की हत्या करने का मौका मिला। बैरागढ़ पुलिस इस लापरवाही पर स्कूल प्रबंधन को भी नोटिस जारी कर जवाब मांगने की तैयारी कर ली है।

चेयरमैन बोले रोजाना की तरह 2.20 पर निकला

क्राइस्ट मेमोरियल स्कूल के चेयरमैन मनीष के मैथ्यू ने नवदुनिया को बताया कि कार्तिक मेधावी छात्र था। उसकी मृत्यु का उन्हें भी काफी दुख है। वह रोजाना की तरह स्कूल से 2.20 बजे निकला था। सीसीटीवी फुटेज में भी वह नजर आ रहा है। मैथ्यू का कहना है कि बच्चे प्राइवेट वाहन से आता-जाता था। सोमवार को ऑटो चालक ने नहीं बताया कि बच्चा घर नहीं पहुंचा है। अगर वह बताता तो जल्दी सूचना मिल जाती है। इधर, उसकी मृत्यु पर स्कूल में एक शोक सभा का आयोजन कर मंगलवार की छूट्टी घोषित कर दी थी।

दो माह पहले ही काम पर रखा था

सोमवार सुबह 9 बजे मैं रोज की तरह अपनी दुकान (लक्ष्य इंटरप्राइजेज) पहुंचा। 11 बजे मुझे किसी काम से बाहर जाना था। मैं विट्टू उर्फ विशाल को सोलर बल्व देकर चला गया था। वह पैकेजिंग का काम करता था। शाम 4 बजे लौटा तो विट्टू मुझे बाहर ही मिल गया। वह बोला मोहल्ले में एक बच्चे की मौत हो गई, उसे थाने जाना है। जब मैंने दुकान की चाबी और ब्रिकी का हिसाब मांगा तो उसने कहा दुकान के बाहर जैकेट रखी है। उसमें दुकान की चाबी और पैसे रखे हैं। जब मैंने दुकान खोलकर देखा तो उसमें उसके जूते पड़े थे, जिसके फीते अलग थे। दुकान में दो स्थानों पर खून के धब्बे भी देखे थे। कुछ समझ पता तब तक बैरागढ़ थाने से फोन आ गया। उसके बाद पूरा मामला ही साफ हो गया। दो माह पहले ही उसको काम पर रखा था (जैसा दुकान मालिक सचिन श्रीवास्तव ने बताया)

22 मिनट रुका होगा दुकान में सीसीटीवी में कैद

कार्तिक को स्कूल से लेकर वह सीधे कृष्णा प्लाजा पहुंचा, सीसीटीवी फुटेज में विट्टू मासूम कार्तिक को लाते दिख रहा है। वह उसे पैदल दुकान की तरफ लेकर जा रहा है। बाद में वह तेजी से फिर बाहर की तरफ लौटता है। इसके बाद वह बोरी लेकर वापस तेजी से दुकान की तरफ जाते नजर आता है। उसके थोड़ी देर बाद वह सीसीटीवी में एक सफेद रंग की बोरी को घसीटते हुए दिख रहा है। उसके बाद कृष्णा प्लाजा के बाहर लगे सीसीटीवी में विट्टू बोरी को एक अंजान युवक की मदद से अपनी बाइक पर रखता है। इतने बोरी बाइक से गिर जाती है तो बुछ बच्चे उसे उठवाते हैं। वह संभालता है, लेकिन बाइक समेत फिर जमीन पर गिर जाता है। इसके बाद हड़बड़ी में बोरी में बंद लाश को बाइक की पेट्रोल की टंकी पर रखकर तेजी से निकल जाता है। यह बोरी बिल्कुल वैसी है, जिसमें कार्तिक का शव बरामद हुआ था। सीसीटीवी में कैद पूरा घटनाक्रम 22 मिनट में करता है। इस हिसाब से वह 22 मिनट दुकान में रहा होगा।

घटनाक्रम का करवाया रिक्रेशन

पुलिस विट्टू को लेकर सबसे पहले स्कूल के बाहर पहुंची, जहां से उसने बच्चे को उठाया था। उसके बाद बच्चे को लेकर वह जिन रास्तों से कृष्णा प्लाजा दुकान में दाखिल हुआ वह पहुंची। उससे दुकान पर हत्या करने के पूरे घटनाक्रम का रिक्रेएशन कराया गया।

सिलसिलेवार पूरा घटनाक्रम

स्कूल से अगवा हुआ- 2.20 बजे

हत्या कर आरोपी कृष्णा प्लाजा से बाहर निकला -2.42 बजे

मुबारक मार्ग के टोल नाके पर सीसीटीवी में कैद - 4.05 बजे

टोल के कर्मचारियों ने देखी संदिग्ध बोरी- 5.45 बजे

संदेही को लिया हिरासत - 7ः47 बजे

हत्या का आरोपी विशाल रूपानी गिरफ्तार - 11ः50 बजे
 

Source:Agency

Rashifal